Home > मुख्य ख़बरें > चीन को लगेगी मिर्ची! 6 दशक में पहली बार व्हाइट हाउस पहुंचे तिब्बत के राजनीतिक प्रमुख

चीन को लगेगी मिर्ची! 6 दशक में पहली बार व्हाइट हाउस पहुंचे तिब्बत के राजनीतिक प्रमुख

तिब्बत को लेकर अमेरिका पर आतंरिक मामलों में दखल का आरोप लगा चुके चीन को अब तिब्बत की निर्वासित सरकार के मुखिया का एक और कदम नागवार गुजर सकता है. तिब्बत की निर्वासित सरकार के प्रमुख डॉ लोबसांग सांगाय ने अमेरिका के निमंत्रण पर व्हाइट हाउस पहुंचे. इस दौरान उन्होंने तिब्बत मामलों के लिए नवनियुक्त अमेरिकी अधिकारी से मुलाकात की. 6 दशक में यह पहली बार है जब सीटीए के प्रमुख को व्हाइट हाउस में आमंत्रित किया गया.

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.

इस मुलाकात को लेकर सांगाय ने ट्वीट करते हुए लिखा है,''बतौर केंद्रीय तिब्बत प्रशासन के राजनीतिक प्रमुख व्हाइट हाउस में पहली बार औपचारिक प्रवेश पाना गौरव की बात है.'' उनकी इस यात्रा को लेकर सीटीए की तरफ से आधिकारिक बयान जारी किया गया है.

बयान में कहा गया है कि, डॉ लोबसांग सांगाय की इस यात्रा से सीटीए की लोकतांत्रिक प्रणाली और उसके राजनीतिक प्रमुख दोनों को अहमियत मिलेगी.यह बैठक अभूतपूर्व थी. इससे अमेरिकी अधिकारियों के साथ सीटीए की भागीदारी को लेकर एक आशावादी माहौल तैयार होगा.

तिब्बत के इस कदम से चीन और नाराज हो सकता है. दरअसल, अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने 15 अक्टूबर को वरिष्ठ राजनयिक डेस्ट्रो को तिब्बत मामलों के लिए विशेष समन्वय नियुक्त किया था. अमेरिका के इस फैसले से चीन पहले से ही नाराज है और उसने अमेरिका पर चीन के आंतरिक मामलों में दखल देने का आरोप लगाया था. अब तिब्बत के निर्वासित सरकार के प्रमुख का व्हाइट हाउस जाना चीन को और नाराज कर सकता है.

देखें-

इससे पहले इन दोनों की मुलाकात को लेकर किए गए सवाल पर चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा था कि तिब्बत, चीन का आंतरिक मसला है इस पर किसी बाहरी को दखल नहीं देना चाहिए. चीन ने डेस्ट्रो की नियुक्ति को लेकर भी अमेेरिका पर चीन में अस्थिरता पैदा करने की कोशिश का आरोप लगाया था. 

  • अरुणाचल बॉर्डर तक चीन की रेल लाइन, प्रोजेक्ट पर खरबों का खर्च
  • App download

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.


    loading...