Home > मुख्य ख़बरें > हरिद्वार कुम्भ मेला इन इंतजामों के साथ पहले से भी ज्यादा दिव्य और भव्य होगा

हरिद्वार कुम्भ मेला इन इंतजामों के साथ पहले से भी ज्यादा दिव्य और भव्य होगा

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को कहा कि 2०21 में होने वाला हरिद्वार कुम्भ मेला अपने दिव्य एवं भव्य होगा। श्री त्रिवेंद्र ने आज यहां अपने सरकारी आवास में अखाड़ा परिषद् के साथ हरिद्वार कुम्भ 2०21 की तैयारियों के संबध में आयोजित बैठक में कहा कि कुंभ मेला अपने दिव्य एवं भव्य स्वरूप में होगा। कुंभ की परम्परा एवं संस्कृति का पूरा ध्यान रखा जायेगा।
उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के कारण कुछ व्यावहारिक समस्याएं आयी हैं, कुभ के शुरू होने पर कोविड की स्थिति कैसी रहती है, उसके अनुसार कुंभ के स्वरूप को विस्तार दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि कुंभ में परिस्थितियों के हिसाब से जो भी निर्णय लिये जायेंगे, उसमें अखाड़ा परिषद् एवं साधु-संतों के सुझाव जरूर लिये जायेंगे। राज्य सरकार का प्रयास है कि श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो।
उन्होंने कहा कि कुंभ के कायोर्ं की समय-समय पर समीक्षा की जा रही है, जो कार्य अभी प्रगति पर हैं, उन्हें जल्द पूर्ण करने के लिए संबंधित विभागीय सचिवों नियमित निगरानी करने के निदेर्श दिये गये हैं। मुख्य सचिव को भी 15 दिन में कुंभ मेले की समीक्षा के निदेर्श दिये गये हैं। 
श्री त्रिवेन्द्र ने इस अवसर पर मेलाधिकारी से कायोर्ं की प्रगति की जानकारी भी ली। उन्होंने कुभ प्रारम्भ होने से पूर्व सभी स्थाई प्रकृति के कार्य पूर्ण करने, किसी भी प्रकार की समस्या होने पर शासन के उच्चाधिकारियों को अवगत कराने, स्वच्छता, अतिक्रमण हटाने, पार्किंग स्थलों की सुचारू व्यवस्था रखने के निदेर्श दिये। कोविड को ध्यान में रखते हुए सभी व्यवस्थाएं की जाए।   
इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि सकुशल कुंभ सम्पन्न कराने के लिए अखाड़ा, परिषद् एवं संत समाज का पूरा सहयोग लिया जायेगा। अखाड़ों की समस्याओं का हर संभव निदान करने का प्रयास किया जायेगा। कुंभ में श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना न करना पड़े, इसके लिए सुव्यवस्थित रणनीति बनाई जायेगी। बड़े आयोजनों को सकुशल कराने में जन एवं संत समाज का सहयोग भी बहुत जरूरी है। माँ गंगा के आशीवार्द से भव्य हरिद्वार कुंभ का आयोजन किया जायेगा। 
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष महन्त नरेन्द्र गिरी ने कहा कि हरिद्वार कुंभ के सफल आयोजन के लिए राज्य सरकार को पूर्ण सहयोग दिया जायेगा।  हरिद्वार में दिव्य एवं भव्य कुंभ का आयोजन हो, इसके लिए सभी व्यवस्थाएं समय पर पूर्ण हों। कोविड की परिस्थितियों के दृष्टिगत सरकार द्वारा कुंभ के स्वरूप के लिए जो भी निर्णय लिया जायेगा, उसमें पूरा सहयोग दिया जायेगा। इस अवसर पर उन्होंने अखाड़ों की कुछ समस्याओं से भी अवगत काराया। 
मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि 15 दिसंबर तक अधिकांश स्थाई प्रकृति के कार्य पूर्ण हो जायेंगे। जबकि 31 दिसम्बर तक अन्य सभी कार्य पूर्ण कर लिए जायेंगे। उन्होंने बताया कि इस बार कुंभ के लिए बनाये जा रहे  ०9 नये घाटों, ०8 पुलों व सड़कों का कार्य पूर्णता की ओर है। सवच्छता पर विशेष बल दिया जा रहा है। पेयजल, पार्किंग की व्यवस्था, अतिक्रमण हटाने का कार्य लगातार किया जा रहा है। कुंभ शुरू होने से पूर्व सभी व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जायेंगी। 
इस अवसर पर महामंत्री अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् महन्त हरि गिरी, महन्त प्रेम गिरी, महन्त सत्यगिरी, महन्त कैलाशपुरी, महन्त मुकुन्दानन्द ब्रह्मचारी,महन्त रवीन्द्र पुरी, गढ़वाल कमिश्नर रविनाथ रमन, आईजी गढ़वाल अभिनव कुमार, आईजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल, अपर सचिव शहरी विकास  विनोद कुमार सुमन, अपर मेलाधिकारी डॉ. ललित नारायण मिश्र, हरवीर सिंह, रामजी शरण शमार् आदि उपस्थित थे।

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.


loading...